SURTA ]- छत्तीसगढ़ी भाषा अउ छत्तीसगढ़ के धरोहर ल समर्पित

रमेशकुमार सिंह चौहान के छत्तीसगढ़ी काव्यांजली:- सुरता rkdevendra.blogspot.com

हरेली हे आज

हरेली के गाड़ा गाड़ा बधाई -

लइका सियान जुरमिल के खुशी मनाव हरेली हे आज ।
अब आही राखी तिजा पोरा अऊ जम्मो तिहार हो गे अगाज ।

चलव संगी धो आईय नागर कुदरा अऊ जम्मो औजार ।
बोवईय झर गे निदईय झर गे झर गे बिआसी के काज ।

हमर खेती बर देवता सरीखे नागर गैती हसिया,
इखर पूजा पाठ करके चढ़ाबो चिला रोटी के ताज ।

लिम के डारा ले पहटिया करत हे घर के सिंगार ।
लोहार बाबू खिला ले बनावत हे मुहाटी के साज ।।

ढाकत हे मुड़ी ल मछरी जाली ले गांव के मल्लार ।
ये छत्तीसगढ़ म हर तिहार के हे छत्तीस अंदाज ।।

बारी बखरी दिखय हरियर, हरियर दिखय खेत खार ।
चारो कोती हरियर देख के हमरो मन हरियर हे आज ।।

तरूवा के पानी गोड़इचा म आगे आज ।
माटी के सोंधी सोंधी महक के इही हे राज ।

गांव के अली गली म ईखला चिखला ।
चलव सजाबो गेडी के सुघ्घर साज ।।

जम्मो लइका जवान मचलहीं अब तो ,
बजा बजा के गेड़ी के चर चर आवाज ।।

चलो संगी खेली गेड़ी दउड अऊ खेली नरियर फेक,
जुर मिल के खेली मन रख के हरियर हरियर आज ।

................‘‘रमेश‘‘...........
Previous
Next Post »

ताते-तात

शिव-शिव शिव अस (डमरू घनाक्षरी)

डमरू घनाक्षरी (32 वर्ण लघु) सुनत-गुनत चुप, सहत-रहत गुप दुख मन न छुवत, दुखित रहय तन । बम-बम हर-हर, शिव चरण गहत, शिव-शिव शिव अस, जग दुख भर मन ...

अउ का-का हे इहाँ-