सोमवार, 20 अप्रैल 2015

सीधा-सादा

सीधा-सादा जेन हे, जोजवा तो कहाय ।
दुनिया दारी छोड़ के, अपने रद्दा जाय ।
अपने रद्दा जाय, सहय अपमान  तभो ले ।
झूठ लबारी छोड़, पाय धोखा ग सबो ले ।।
का होही भगवान, पाप होवत हे जादा ।
काबर तो दुख पाय, जगत मा सीधा-सादा ।।