शनिवार, 25 अप्रैल 2015

जाना नोनी ससुरार



मोरे कोरा छोड़ तै, बन बेटी हुशियार ।
दुनिया के ये रीत हे, जाना नोनी ससुरार ।।
जाना नोनी ससुरार, खुशी दुनिया के ले ले ।
महतारी ला छोड़, सास के बेटी होले ।।
तोर सास ससुरार, सरग आवय तोरे ।
पागा तोरे हाथ, लाज ला रखबे मोरे ।।