मंगलवार, 2 जून 2015

आजा बादर झूम के

आजा बादर झूम के, हवय अगोरा तोर ।
खेत खार अउ अंगना, मया बंधना छोर ।।
मया बंधना छोर, बरस रद-रद झर-झर के ।
धरती प्यासे घात, जुड़ावय ओ जी भर के ।।
नाचही गा ‘रमेष‘, बजा के अपने बाजा ।
देखत हे सब निटोर, झूम केअब तै आजा ।