SURTA ]- छत्तीसगढ़ी भाषा अउ छत्तीसगढ़ के धरोहर ल समर्पित

रमेशकुमार सिंह चौहान के छत्तीसगढ़ी काव्यांजली:- सुरता rkdevendra.blogspot.com
छत्तीसगढ़ महतारी के गोहार

छत्तीसगढ़ महतारी के गोहार

करय, छत्तीसगढ़ महतारी, आंसू छलकावत गोहार । मोरे लइका मन हा काबर, कइसन लगथव गा बीमार ।। जब्बर छाती तो तोर रहिस, सह लेत रहे घन के मार। घी...
Read More

होगे मोरे जीनगी

होगे मोरे जीनगी, कइसन ऊंच पहाड़ । सकला गे सब मास हा, बाचे केवल हाड़ ।। हाथ गोड़ होगे सगा, मोला तो बिसराय । मोरे आंखी मोर ले, आंखी ...
Read More

दे दाई कुछु खाय

बेटा- बासी दे के भात दे, दे दाई कुछु खाय । सांय सांय जी हा करय, कुछु ना तो भाय ।। दाई-  दाना दाना खोज के, लेहूं भात बनाय । बेटा...
Read More
जतन करव बेटी के संगी जतन करव रे

जतन करव बेटी के संगी जतन करव रे

जतन करव बेटी के संगी जतन करव रे जतन करव नोनी के संगी जतन करव रे मोर जतन करव रे ओ.. मोर जतन करव रे मैं नारी दुखयारी अंव नर नारी के जननी...
Read More
दुनिया मा सतनाम कहाय

दुनिया मा सतनाम कहाय

लहर लहर सादा झण्ड़ा हा, जैत खाम मा लहराय । हवे सत्य शाश्वत दुनिया मा, दे संदेशा जग बगराय ।। महानदी के पावन तट मा, गिरौदपुरी घाते सुहाय ।...
Read More

सत्य नाम साहेब

 । कज्जल छंद । बोल सत्य नाम साहेब । सत्य सत्य नाम साहेब देख सत्य नाम साहेब । सत्य सत्य नाम साहेब । दोहा । चलव चलव गुरू के शरण,...
Read More
दुनिया मा तैं आय के, माया मा लपटाय

दुनिया मा तैं आय के, माया मा लपटाय

दुनिया मा तैं आय के, माया मा लपटाय । असल व्यपारी हे कहां, नकली के भरमार । कोनो पूछय ना असल, जग के खरीददार ।। असल खजाना छोड़ के, नकली ला...
Read More
जय जय मइया जग कल्याणी

जय जय मइया जग कल्याणी

जय जय मइया आदि भवानी । जय जय मइया जग कल्याणी तोरे भगतन सेवा गावय । आनी बानी रूप सजावय सोलह सिंगार तोर माता । परम दिव्य हे जग विख्याता म...
Read More

लाल बहादुर लाल हे

लाल बहादुर लाल हे, हमर देष के शान । सीधा-सादा सादगी, जेखर हे पहिचान ।। सैनिक मन के हौसला, जेन बढ़ाये घात । भुईया के भगवान के, करे प...
Read More

धर गांधी के बात ला

धर गांधी के बात ला, अपने अचरा छोर । सत्य अहिंसा के डहर, रेंगव कोरे कोर ।। दिखय चकाचक गांव हा, अइसे कर तैं काम । दूर करव सब गंदगी, ह...
Read More

ताते-तात

शिव-शिव शिव अस (डमरू घनाक्षरी)

डमरू घनाक्षरी (32 वर्ण लघु) सुनत-गुनत चुप, सहत-रहत गुप दुख मन न छुवत, दुखित रहय तन । बम-बम हर-हर, शिव चरण गहत, शिव-शिव शिव अस, जग दुख भर मन ...

अउ का-का हे इहाँ-