रविवार, 18 अक्तूबर 2015

जतन करव बेटी के संगी जतन करव रे

जतन करव बेटी के संगी जतन करव रे
जतन करव नोनी के संगी जतन करव रे

मोर जतन करव रे ओ.. मोर जतन करव रे
मैं नारी दुखयारी अंव
नर नारी के जननी महतारी अंव महतारी अंव
जतन करव रे......

पेट भीतर काबर कोनो नोनी बाबू जांचे
नोनी नोनी ला मारे तैं बाबू बाबू हा बाचे
तुहर करेजा बाबू के मैं हर सुवारी अंव
जतन करव रे......

आधा दुनिया मोरो हे आधा अबादी कहाय
पेट भीतर हमला मार के सृश्टि रचना डोलाय
जगत रचना के मैं हर फूलवारी अंव
जतन करव रे......

जनम दे के दुनिया मा मोला बेटा कस बढ़ावा
दाई ददा के लाठी बनहू महूं ला खूब पढ़ावा
ससुरे मइके मा सुख दुख के संगवारी अंव
जतन करव रे......