बुधवार, 9 दिसंबर 2015

अइसन शिक्षा नीति हे

अइसन शिक्षा नीति हे, नम्बर के सब खेल ।
नम्बर जादा लाय के, झेले लइका झेल ।।

पढ़े लिखे ना ज्ञान बर, नम्बर के हे होड़ ।
अइसन सोच समाज के, बचपन लेवय तोड़ ।।

पढ़े लिखे के बोझ मा, लदकाये हे जवान ।
पढ़े लिखे के नाम मा, कतका देवय जान ।।

अव्वल आय के फेर मा, झेल सकय ना झेल ।
पढ़त पढ़त तो कई झन, करय मउत ले मेल ।।

पढईया लइका सुनव, करहू मत तुम भूल ।
नम्बर  के ये फेर ला, देहूं झन तुम तूल ।।