मंगलवार, 29 मार्च 2016

जय हो जय हो भारत माता

जय हो जय हो भारत माता, तोरे जस हम गावन ।
सुत उठ के बड़े बिहनिया हम, तोरे पांव पखारन ।

हिन्दू मुस्लिम सिक्ख इसाई, जैन बौद्ध सुत तोरे ।
अपन अपन सुर मा सउरय सब, दाई दाई मोरे ।
तोरे कोरा बइठे बइठे, जुरमिल हम इतरावन ।
जय हो जय हो भारत माता, तोरे जस हम गावन ।

जम्मू श्रीनगर मुड़ी तोरे, मुकुट हिमालय भाये।
शिमला तोरे माथे बिन्दी, दुनिया ला चमकाये ।।
नाक नई दिल्ली हे तोरे, नथली हम पहिरावन ।
जय हो जय हो भारत माता, तोरे जस हम गावन ।।

उत्तरकाशी चंड़ीगढ़ हा, आंखी कारी कारी ।
जयपुर पटना गाल गुलाबी, मथुरा मुॅह अनुहारी ।
बाड़मेर कच्छ कोहिमा अउ, मणिपुर हाथ सवारन ।
जय हो जय हो भारत माता, तोरे जस हम गावन ।।

गंगा चम्बल गोरस तोरे, अमृत ला छलकाये ।
छाती भोपाल रायपुर दिल, अन्न धन्न बगराये।
तोरे गोरस पीये दाई, हमघात मेछरावन ।
जय हो जय हो भारत माता, तोरे जस हम गावन ।।
(चम्बल-यमुना नदी के सहायक नदी)

जगन्नाथ पेट बने हे, हरियर पर्वत साड़ी ।
जांघ शिमोगा संग कड़प्पा, माहे मदुरै माड़ी
रामनाथपुरम संग कोल्लम, तरपौरी मनभावन
जय हो जय हो भारत माता, तोरे जस हम गावन ।।

मूर्ति गढ़े न मूर्ति पूजा, हम दाई अपन बनावन ।
जय हो जय हो भारत माता, तोरे जस हम गावन ।।