शुक्रवार, 6 मई 2016

लगे देश मा रोग

जब तक जागय न मनखे, सबकुछ हे बेकार ।
सबो नियम कानून अउ, चुने तोर सरकार ।
मांगय भर अधिकार ला, करम ल अपन भुलाय । ।
लोक लाज ला छोड़ के, छोड़े हे संस्कार ।।

धरे कटोरा हे खड़े, एक गोड़ मा लोग ।
फोकट मा सब बांटही, दुनिया के हर भोग ।
हमर देश सरकार हे, फोकट हा अधिकार ।
खास आम के सोच ले, लगे देश मा रोग ।।