रविवार, 23 अक्तूबर 2016

ये जीनगी के काहीं धरे कहां हे

अभी मन हा
भरे कहां हे
ये जीनगी के
काहीं धरे कहां हे

चाउर दार निमेर के
पानी कांजी भरे हे
घर के मोहाटी मा
दीया बाती धरे हे
अभी चूल्हा मा
आगी बरे कहां हे

करिया करिया
बादर हा छाये हे
रूख-राई हा
डारा-पाना ल डोलाये हे
पानी के बूँद हा अभी
धरती मा परे कहां हे

काल-बेल के
घंटी घनघनावत हे
हड़िया के अंधना
सनसनावत हे
जोहत हे भीतरहिन
अभी पैना भरे कहां हे