बुधवार, 23 नवंबर 2016

//घर-घर के दीया बन जाबे//

श्री हरिवंशराय बच्चन के 1955 में प्रकाशित काव्य संग्रह ‘प्रणय पत्रिका‘ में प्रकाशित कविता ‘मेरे अंतर की ज्वाला तुम घर-घर दीप शिखा बन जाओ‘ का छत्तीसगढ़ी अनुवाद-

//घर-घर के दीया बन जाबे//

मोर मन के दहकत आगी, घर-घर के दीया बन जाबे ।
मोर मन के दहकत आगी, घर-घर के दीया बन जाबे ।।

सुरूज करेजा मा अंगार धरे
सात रंग बरसाथे धरती म ।
समुन्दर नुनछुर पानी पी के
अमरित बरसाथे धरती म ।।

घाव छाती म धरती सहिके
महर-महर ममहाथे फूल म....

अपन जात धरम मरजाद, रे मन दुख मा भुला झन जाबे ।
मोर मन के दहकत आगी, घर-घर के दीया बन जाबे ।।

पुण्य हा जमा होथे जब
आगी करेजा मा लगथे ।
येखर मरम जाने ओही
जेखर काया ये सुलगथे ।।

अंतस भरे रखथे जेन हा
बनथे राख-धुंआ कचरा ...

बाहिर निकल नाचथे-गाथे, ताव सकेल परकाश बन जाबे ।
मोर मन के दहकत आगी, घर-घर के दीया बन जाबे ।।


अनुवादक-रमेश चौहान
--------------------------
मूल रचना-

‘मेरे अंतर की ज्वाला तुम घर-घर दीप शिखा बन जाओ‘