शुक्रवार, 23 दिसंबर 2016

सुरूज के किरण संग मन के रेस लगे हे

सुरूज के किरण संग
मन के रेस लगे हे

छिन मा तोला छिन मा मासा
नाना रूप धरे हे
काया पिंजरा के मैना हा
पिंजरा म कहां परे हे

करिया गोरिया सब ला
मन बैरी हा ठगे हे

सरग-नरक ल छिन मा लमरय
सुते-सुते खटिया मा
झरर-झरर बरय बुतावय
जइसे भूरी रहेटिया मा

माया के धुन्धरा म लगथे
मन आत्मा हा सगे हे

मन के जीते जीत हे
हारही कइसे मन ह
रात सुरूज दिखय नही
हरहिंछा घूमय मन ह

‘मैं‘ जानय न अंतर
मन म अइसन पगे हे