शुक्रवार, 30 जून 2017

शौचालय बैरी हा, दुखवा बोवत हे

डोहारत-डोहारत, घर भर बर पानी
मोरे कनिहा-कुबर, दाई टूटत हवे ।
खावब-पीयब अउ, रांधब-गढ़ब संग
बाहिर-बट्टा होय ले, प्राण छूटत हवे ।।
डोकरा-डोकरी संग, लइका मन घलोक
घर म नहाबो कहि कहि पदोवत हे।
कइसे कहंव दाई, नाम सफाई के धरे
शौचालय बैरी हा, दुखवा बोवत हे ।।

गुरुवार, 29 जून 2017

देश भले बोहावय, धारे-धार बाट मा

जात-पात भाषा-बोली, अउ मजहबी गोठ
राजनीति के चारा ले, पोठ होगे देश मा ।
टोटा-टोटा बांधे पट्टा, जस कुकुर पोसवा
देश भर बगरे हे, आनी-बानी बेश मा ।
कोनो अगड़ी-पिछड़ी, कोनो हिन्दू-मुस्लिम
कोनो-कोनो दलित हे, ये बंदर बाट मा ।
सब छावत हवय, बस अपने कुरिया
देश भले बोहावय, धारे-धार बाट मा ।।

शुक्रवार, 23 जून 2017

ये सरकारी चाउर

ये सरकारी चाउर, सरकारी शौचालय
त परे-परे बनगे, कोड़िया-अलाल के ।
जेला देखव कंगला, अपने ल बतावय
गोठ उन्खर लगय, हमला कमाल के ।।
फोकट म पाय बर, ओ ठेकवा देखावय ।
कसेली के दूध घीव, हउला म डार के ।
मन भर छेके हवे, गांव के गली परिया
सड़क म बसे हवय, महल उजार के ।।

सोमवार, 19 जून 2017

सभ्य बने के चक्कर मा

लइका दाई के दूध पिये, दाई-दाई चिल्लाथे ।
आया डब्बा के दूध पिये, अपने दाई बिसराथे।।

जेने दाई अपने लइका, गोरस ला नई पियाये।
घेरी-घेरी लालत ओला, जेने ये मान गिराये ।।

सभ्य बने के चक्कर मा जे, अपन करेजा बिसराये ।
बोलव दुनिया वाले कइसे, ओही हा सम्य कहाये ।।

दाई के गोरस कस होथे, देश राज के भाखा ।
पर के भाखा ओदर जाही, जइसे के छबना पाखा ।।

म्याऊ-म्याऊ बोल-बोल के,  बिलई बनय नही तोता।
छेरी पठरू संग रही के, बघवा होय नही थोथा ।।

अपने गोरस अपने भाखा, अपने लइका ला दे दौ ।
देखा-सेखी छोड़-छाड़ के, संस्कारी बीजा बो दौ ।

मंगलवार, 13 जून 2017

पियासे ठाड़े जोहय, रद्दा एको बूंद के

करिया-करिया घटा, बड़ इतरावत
बड़ मेछरावत, करत हवे ठठ्ठा ।
लुहुर-तुहुर कर, ठगनी कस ठगत
बइठारत हवे, हमरे तो भठ्ठा ।।
नदिया-तरिया कुँआ, घर के बोर बोरिंग
पियासे ठाड़े जोहय, रद्दा एको बूंद के ।
कोन डहर बरसे, कोन डहर सोर हे
बैरी हमरे गांव ला, छोड़े हवे कूंद के ।।

रविवार, 11 जून 2017

खोज खोज के मारव

कहाँ ले पाथे आतंकी, बैरी नकसली मन
पेट भर भात अउ, हथियार हाथ मा ।
येमन तो मोहरा ये, असली बैरी होही हे
जेन ह पइसा देके, खड़े हवे साथ मा ।।
कोन धनवान अउ, कोन विदवान हवे
पोषत हे जेन बैरी, अपनेच देश के ।
खोज खोज के मारव, मुँहलुकना मन ला
येही असली बैरी हे, हमरेच देश के ।।