बुधवार, 18 दिसंबर 2013

गुरू घासी दास बबा



गुरु घासी दास बाबा,  सत के  अलख जगायें ये धाम म  ।
सत के अलख जगायें ये धाम म ...2

सादा तोर खम्भा बाबा, सादा तोर धजा ,
सादा तोर धजा बाबा, सादा तोर धजा,
सत के धजा फहरायें ये धाम म ।

मनखे मनखे एक होथे, मनखे ल बतायें
मनखे ल बतायें बाबा, मनखे ल बतायें
मनखे  मन के छुवाछूत ल मिटायें ये धाम म ।

शुक्रवार, 6 दिसंबर 2013

अब मान जा ना रे जोही

रतिहा के गुसीआएं, अब ले बोलत नई अस ।
अब मान जा ना रे जोही, मोर जीयरा जरय। अब मान जा...

कोयली कस बोली, तोर हसी अऊ ठिठोली,
सुने बर रे पिरोहील, मोर मनुवा तरसय । अब मान जा...

चंदा बरन तोर रूप, राहू कस गुस्सा घूप,
लगाय हे रे ग्रहण, अंधियार अस लागय । अब मान जा...

तोर गोरी गोरी गाल, गुस्सा म होगे ह लाल,
तोर गुस्सा  ह रे बैरी, आगी कस बरय । अब मान जा...

होही गलती मोर, मै कान धरव
तोर मया बर रे संगी, मै घेरी घेरी मरव । अब मान जा...
...............................
.रमेश

सोमवार, 2 दिसंबर 2013

हे महामाई

हे महामाई दया कर, हम नवावन माथ ला ।
भक्त सब जष तोर गावन, छोड़ बे झन मां साथ ला ।
तोर सीवा मोर दाई, कोन हे साथी भला ।
जांच जग ला देख डरे हन, स्वार्थ मा भूले भला ।