रविवार, 27 अक्तूबर 2013

काटा म जब काटा चुभाबे


काटा म जब काटा चुभाबे, तभे निकलथे काटा पांव ।
कटे ल अऊ काटे ल परथे, त जल्दी भरते कटे घांव ।।

लोहा ह लोहा ला काटथे, तब बनथे लोहा औजार ।
दुख दुख ला काटही मनखे, ऐखर बर तै रह तइयार ।।

जहर काटे बर दे ल परथे, अऊ जहर के थोकिन डोज ।
गम भुलाय ल पिये ल परथे, गम के पियाला रोज रोज ।।

प्रसव पिरा ला जेन ह सहिथे, तीनो लोक ल जाथे जीत ।
धरती स्वर्ग ले बड़े बनके, बन जाथे महतारी मीत ।।

दरद मा दरद नई होय रे, दरद के होथे अपन भाव ।
दरद सहे म एक मजा होथे, जब दरद म घला होय चाव ।।

गुरुवार, 17 अक्तूबर 2013

काबर करय दुख



मनखे काबर करय दुख, भूला के बिसवास।
दुख के भीतर हवय सुख, इही जगत के आस ।।
इही जगत के आस, रिकोथे तेन समोथे ।
हमर कहां अवकात, सबो ओही पुरोथे ।।
घट घट जेखर वास, कोन ओला परखे ।
छोड़ संसो चिंता, करम भर कर मनखे।।

...........‘रमेश‘.................

रविवार, 6 अक्तूबर 2013

हे जिबरावत गोरी





काजर आंजत मुंह सजावत देख लजावत दर्पण छोरी ।
केस सजावत फूल लगावत खुद ल देखत भावत छोरी ।
आवत जावत रेंगत कूदत नाचत गावत देखत गोरी ।
काबर मुंह बनावत मुंह लुकावत हे जिबरावत गोरी ।

......................रमेश.....................

चार दिन के सगा घरोधिया होगे

चार दिन के सगा घरोधिया होगे ।
मोर घर के मन ह, परबुधिया होगे ।।1।।

का जादू करंजस, अइसन होईस रे
अपन समझेव, तेन बहुरूपिया होगे ।।2।।

कोनो ल सुहावत नईये मोरो भाखा
कइसन मोर लईका मन शहरिया होगे ।।3।।

घात फबयत रहिस भाखा के लुगरा
का करबे ओही लुगरा फरिया होगे ।।4।।

मोर बडका बड़का रहिस महल अटारी,
आज कइसन सकला के कुरिया होगे ।।5।।

जेन लईका ल पढायेंव तेने कहा अड़हा
लाज म मोर मुंह करिया करिया होगे ।।6।।

अपन घर ल पहिचान बाबू सपना ले जाग
देख निटोर के अब तो बिहनिया हो