SURTA ]- छत्तीसगढ़ी भाषा अउ छत्तीसगढ़ के धरोहर ल समर्पित

रमेशकुमार सिंह चौहान के छत्तीसगढ़ी काव्यांजली:- सुरता rkdevendra.blogspot.com

देख बड़ोरा काल के

देख बड़ोरा काल के, हरागे मोर चेत । परवा कठवा उड़ा गे, काड़ पटिया समेत ।। काड़ पटिया समेत, गाय कोठा के मोरे । हम देखत रहिगेंन, करेजा मु...
Read More

काबर धरती डोलगे

काबर धरती डोलगे, कांपत हे इंसान । कइसन माया तोर हे, हे हमरे भगवान ।। हे हमरे भगवान, हजारो झन तो मरगे । रच रच ले घर द्वार, देख बोइर कस झरग...
Read More

जाना नोनी ससुरार

मोरे कोरा छोड़ तै, बन बेटी हुशियार । दुनिया के ये रीत हे, जाना नोनी ससुरार ।। जाना नोनी ससुरार, खुशी दुनिया के ले ले । महतारी ला छोड...
Read More

जनउला हे अबूझ

का करि का हम ना करी, जनउला हे अबूझ । बात बिसार तइहा के, देखाना हे सूझ ।। देखाना हे सूझ, कहे गा हमरे मुन्ना हा । हवे अंधविश्वास...
Read More

बेटा जियान नइ परय

बेटा जियान नइ परय, कमावत हवे बाप । दुनो हाथ ले तै उलच, दिखत रह टीप-टाप ।। दिखत रह टीप-टाप, दउड़ सरपट बाइक मा । साइकील मा बाप, मजा पाये...
Read More

भोले बाबा

भोले बाबा हा अपन, तन म भभूत लगाय । सांप बिच्छु के ओ बने, अपन गहना सजाय ।। अपन गहना सजाय, बाघ के छाला बांधे । जटा गंगा बिठाय, चंदा ला म...
Read More

भज मन सीताराम तै

भज मन सीताराम तै, होहि तोर उद्धार । जगत पिता तो राम हे, सीता जगत अधार ।। सीता जगत अधार, गोहरा बिपत अमन मा । माटी चोला तोर, सोच का रखे ...
Read More

हे हनुमान प्रभु

ले सुध हे हनुमान प्रभु, राम दूत बजरंग । मूरत सीताराम के, रखथस अपने संग । रखथस अपने संग, चीर छाती तै देखाये । ओखर तै रखवार, जगत ला खुदे...
Read More

जग महतारी शारदे

जग महतारी शारदे, हाथ जोड़ परनाम । हमरे मन मा हे भरे, कइसन के अग्यान।। कइसन के अग्यान, देख के जी काॅपत हे । बचा हमरे परान, हृदय तोला झा...
Read More

हे लंबोदर

हे लंबोदर गौरी सुत, हे गजानन गणेश । श्रद्धा अउ विश्वास के, भेट लाये ‘रमेश‘ ।। भेट लाये ‘रमेश‘, कृपा मोरे ऊपर कर । अब्बड़ हे तकलीफ, नाथ...
Read More

कतका दुख के बात हे

कतका दुख के बात हे, नैतिकता ह सिराय । आत्म सम्मान बेच के, फोकट ला सब भाय ।। फोकट ला सब भाय, लबारी बोलय मनखे । ले सरकारी लाभ, गैर जरूरत मं...
Read More

अंग्रेजी तै सीख के

अंग्रेजी तै सीख के, बने करे हस काम । देश परदेश मा बने, होही तोरे नाम ।। होही तोरे नाम, विश्व भाषा तै जाने । विश्व हमर परिवार, बने तै हर प...
Read More

लाज के छिलका

छिलका भीतर रस भरे, आमा गजब मिठाय । आमा के ये स्वाद ला, छिलका रखय बचाय ।। छिलका रखय बचाय, घाम धुर्रा बैरी ले । तरिया नरवा पार, रखय पानी ग...
Read More

चूरी

चूरी हरियर अउ पियर, भाही तोरे हाथ । पहिर बाह बर हांस के, अमर होय अहिवात । अमर होय अहिवात, धनी के मया मिलय ना । सुघ्घर लगही रूप, देख दे...
Read More

होगे शहीद फेर गा

होगे शहीद फेर गा, हमरे सात जवान । मारे हे चोरी लुका, नक्सली हैयवान ।। नक्सली हैयवान, घात लगाय सुकमा मा । करे नीच करतूत, हमर सुघ्घर बस्...
Read More
मोर छत्तीसगढ़ मा, साल भर तिहार हे

मोर छत्तीसगढ़ मा, साल भर तिहार हे

मोर छत्तीसगढ़ मा, साल भर तिहार हे लगे जइसे दाई हा, करे गा सिंगार हे। हम असाढ महिना, रथयात्रा मनाथन घर घर कथा पूजा, देव ला जोहार हे ।। ...
Read More

मुक्तक

देख देख के दूसर ला दांत ला निपोरत हन । बात आय अपने मुड़ अगास ला निटोरत हन ।। कोन संग देवय हमला आय बिपत भारी, आदमी बने आदमी ला देख गा अगो...
Read More

मन के ताकत

चित्र गुगल से साभार मन के ताकत होत हे, जग म सबले सजोर । मन बड़ चंचल होय गा, पहिली ऐला जोर ।। पहिली ऐला जोर, अंग पांचो रख काबू । ...
Read More

ताते-तात

शिव-शिव शिव अस (डमरू घनाक्षरी)

डमरू घनाक्षरी (32 वर्ण लघु) सुनत-गुनत चुप, सहत-रहत गुप दुख मन न छुवत, दुखित रहय तन । बम-बम हर-हर, शिव चरण गहत, शिव-शिव शिव अस, जग दुख भर मन ...

अउ का-का हे इहाँ-