बुधवार, 25 अक्तूबर 2017

अरे दुख-पीरा तैं मोला का डेरुहाबे

अरे दुख पीरा,
तैं  मोला का डेरूहाबे

मैं  पर्वत के पथरा जइसे,
ठाढ़े रहिहूँव ।
हाले-डोले बिना,
एक जगह माढ़े रहिहूँव

जब तैं  चारो कोती ले
बडोरा बनके आबे
अरे दुख पीरा,
तैं मोला का डेरूहाबे

मैं लोहा फौलादी
हीरा बन जाहूँ
तोर सबो ताप,
चुन्दी मा सह जाहूँ

जब तैं दहक-दहक के
आगी-अंगरा बरसाबे
अरे दुख पीरा,
तैं  मोला का डेरूहाबे

बन अगस्त के हाथ पसेरी
अपन हाथ लमाहूँ
सागर के जतका पानी
चूल्लू मा पी जाहूँ,

जब तैं इंद्र कस
पूरा-पानी तै बरसाबे
अरे दुख पीरा,
तैं  मोला का डेरूहाबे

गलती ले बड़का सजा

लगे काम के छूटना, जीयत-जागत मौत ।
गलती ले बड़का सजा, भाग करम के सौत ।।
भाग करम के सौत, उठा पटकी खेलत हे ।
काला देवय दोष, अपने अपन  झेलत हे ।।
‘रमेश‘ बर कानून, न्याय बस हवय नाम के ।
चिंता करथे कोन, कोखरो लगे काम के ।।

कवि मनोज श्रीवास्तव

घोठा के धुर्रा माटी मा, जनमे पले बढ़े हे
नवागढ़ के फुतकी, चुपरे हे नाम मा ।
हास्य व्यंग के तीर ला, आखर-आखर बांध
आघू हवे अघुवाई, संचालन काम मा ।
धीर-वीर गंभीर हो, गोठ-बात पोठ करे
रद्दा-रद्दा आँखी गाड़े, कविता के खोज मा ।
घोठा अउ नवागढ़, बड़ इतरावत हे
श्यामबिहारी के टूरा, देहाती मनोज मा ।।
-रमेश चौहान

सोमवार, 16 अक्तूबर 2017

बेरोजगारी (सुंदरी सवैया)

नदिया-नरवा जलधार बिना, जइसे अपने सब इज्जत खोथे ।
मनखे मन काम बिना जग मा, दिनरात मुड़ी धर के बड़ रोथे ।।
बिन काम-बुता मुरदा जइसे, दिनरात चिता बन के बरथे गा ।
मनखे मन जीयत-जागत तो, पथरा-कचरा जइसे रहिथे गा ।।

सुखयार बने लइकापन मा, पढ़ई-लिखई करके बइठे हे ।
अब जांगर पेरय ओ कइसे, मछरी जइसे बड़ तो अइठे हे ।।
जब काम -बुता कुछु पावय ना, मिन-मेख करे पढ़ई-लिखई मा
बन पावय ना बनिहार घला,  अब लोफड़ के जइसे दिखई मा ।।

पढ़ई-लिखई गढ़थे भइया, दुनिया भर मा करमी अउ ज्ञानी ।
हमरे लइका मन काबर दिखते,  तब काम-बुता बर मांगत पानी ।
चुप-चाप अभे मत देखव गा,  गुण-दोष  ल जाँचव पढ़ई लिखई के ।
लइका मन जानय काम-बुता, कुछु कांहि उपाय करौ सिखई के ।।

मुक्तक -मया

सिलाये ओठ ला कइसे खोलंव ।
सुखाये  टोटा ले कइसे बोलंव ।
धनी के सुरता के ये नदिया मा
ढरे आँखी ला तो पहिली धोलंव

मंगलवार, 10 अक्तूबर 2017

मन के मइल (दुर्मिल सवैया)

जइसे तन धोथस तैं मल के, मन ला कब  धोथस गा तन के ।
तन मा जइसे बड़ रोग लगे, मन मा लगथे  बहुते छनके ।।
मन देखत दूसर ला जलथे, जइसे जब देह बुखार धरे ।
मन के सब लालच केंसर हो, मन ला मुरदा कस खाक करे ।।

मन के उपचार करे बर तो, दवई धर लौ निक सोच करे ।
मन के मइले तन ले बड़का, मन ला मल ले भल सोच धरे ।।
मन लालच लोभ फसे रहिथे, भइसी जइसे चिखला म धसे ।
अपने मन सुग्घर तो कर लौ, जइसे तुहरे तन जोर कसे ।।

सोमवार, 9 अक्तूबर 2017

सरग-नरक

सरग-नरक हा मनोदशा हे, जे मन मा उपजे ।
बने करम हा सुख उपजाये, सरग जेन सिरजे ।।

जेन करम हा दुख उपजाथे, नरक नाम धरथे ।
करम जगत के सार कहाथे, नाश-अमर करथे ।।

बने करम तै काला कहिबे,  सोच बने धरले ।
दूसर ला कुछु दुख झन होवय, कुछुच काम करले ।।

दूसर बर गड्ढा खनबे ता, नरक म तैं गिरबे ।
अपन करम ले कभू कोखरो, छाती झन चिरबे ।।

शनिवार, 7 अक्तूबर 2017

काबर डारे मोर ऊपर गलगल ले सोना पानी

काबर डारे मोर ऊपर,
गलगल ले सोना पानी

नवा जमाना के चलन
ताम-झाम ला सब भाथें
गुण-अवगुण देखय नही
रंग-रूप मा मोहाथें

मैं डालडा गरीब के संगी
गढ़थव अपन कहानी

चारदीवारी  के फइका
दिन ब दिन टूटत हे
लइका बच्चा मा भूलाये
दाई-ददा छूटत हे

मैं अढ़हा-गोढ़हा लइका
दाई के करेजाचानी

संस्कृति अउ संस्कार बर
कोनो ना कोनो प्रश्न खड़े हे
अपन गांव के चलन मिटाये बर
देशी अंग्रेज के फौज खड़े हे

मैं मंगल पाण्डेय
लक्ष्मीबाई के जुबानी

बुधवार, 4 अक्तूबर 2017

भेड़िया धसान

212 222 221 222 12
कोन कहिथे का कहिथे भीड़ जानय नही
बुद्धि  ला अपने ओही बेर तानय नही
भेड़िया जइसे धसथे आघू पाछू सबो
एकझन खुद ला मनखे आज मानय नही

सोमवार, 2 अक्तूबर 2017

समय म निश्चित बदलाव आथे

हर चढ़ाव के बाद फिसलाव आथे
हर बहाव के बाद ठहराव आथे
बंद होय चाहे चलय ये घड़ी हा
हर समय म निश्चित बदलाव आथे