बुधवार, 3 मई 2017

जनउला-दोहा

जनउला
1.
हाड़ा गोड़ा हे नही, अँगुरी बिन हे बाँह ।
पोटारय ओ देह ला, जानव संगी काँह ।।
2.
कउवा कस करिया हवय, ढेरा आटे डोर ।
फुदक-फुदक के पीठ मा, खेलय कोरे कोर ।।
3.
पैरा पिकरी रूप के, कई कई हे रंग ।
गरमी अउ बरसात मा, रहिथे मनखे संग ।।
4.
चारा चरय न खाय कुछु, पीथे भर ओ चॅूस ।
करिया झाड़ी मा रहय, कोरी खइखा ठूॅस ।।
5.
संग म रहिथे रात दिन, जिनगी बनके तोर ।
दिखय न आँखी कोखरो, तब ले ओखर सोर ।।
6.
हाथ उठा के कान धर, लहक-लहक के बोल ।
मया खड़े परदेश मा, बोले अंतस खोल ।।
......................................................................




उत्तर
1.कुरता, 2. बेनी/चुन्दी  3.छाता  4.जुंआ  5.हवा  6.मोबाइल