SURTA ]- छत्तीसगढ़ी भाषा अउ छत्तीसगढ़ के धरोहर ल समर्पित

रमेशकुमार सिंह चौहान के छत्तीसगढ़ी काव्यांजली:- सुरता rkdevendra.blogspot.com

दाई नवगढ़हिन

दाई नवगढ़हिन हवय, माना तरिया पार । नाव महामाया हवय, महिमा हवय अपार ।। लाल बरन दाई हवय, जिभिया लाल लमाय । लाली चुनरी ओढ़ के, अपन दया...
Read More
आजा मोरे अंगना, हे गणपति गणराज

आजा मोरे अंगना, हे गणपति गणराज

आजा मोरे अंगना, हे गणपति गणराज । गाड़ा गाड़ा नेवता, तोला हे महराज ।। भादो के महिना हवय, अउ अंजोरी पाख । तोर जनम दिन के बखत, दया मया ले ...
Read More

बादर बैरी तैं कहां

बादर बैरी तैं कहां, मुॅह ला अपन लुकाय । कइसे तैं आसों भला, भादों मा तड़पाय ।। काबर तैं गुसिआय हस, आज कनेखी देख । उमड़-घुमड़ तैं आय ...
Read More

आजा माखन चोर

रद्दा जोहत हन हमन, आजा माखन चोर । तोर बिना बिलवा कहूं,  लगे न मन हा मोर ।। तोरे मूरत देख के, आंखी म आसुु आय। मोर-मुकुट मुड़ मा हवय, म...
Read More

शिक्षक दिवस पर दोहे

होय एक शिक्षक इहां, हमर राष्‍ट्रपति देश्‍ा । अब्बड़ ज्ञानी ओ रहिस, सादा ओखर वेष्‍ा ।। राधा कृष्‍णन नाम के, सर्वपली पहिचान । ज्ञान...
Read More

जय हो दाई खमरछठ

जय हो दाई खमरछठ, महिमा तोर अपार । लइका मन बर दे असिस, करत हवन गोहार ।। तोरे सगरी पार मा, बइठे हाथे जोर । लइका के दाई सबो, पाव पखारत तोर...
Read More

ताते-तात

शिव-शिव शिव अस (डमरू घनाक्षरी)

डमरू घनाक्षरी (32 वर्ण लघु) सुनत-गुनत चुप, सहत-रहत गुप दुख मन न छुवत, दुखित रहय तन । बम-बम हर-हर, शिव चरण गहत, शिव-शिव शिव अस, जग दुख भर मन ...

अउ का-का हे इहाँ-