SURTA ]- छत्तीसगढ़ी भाषा अउ छत्तीसगढ़ के धरोहर ल समर्पित

रमेशकुमार सिंह चौहान के छत्तीसगढ़ी काव्यांजली:- सुरता rkdevendra.blogspot.com

मोर कलम शंकर बन जाही

छत्तीसगढ़ी मा नवगीत के कोठी-‘‘मोर कलम शंकर बन जाही’’ छत्तीसगढ़ी नवगीत के ये पहिली नवगीत संग्रह आय । ये पुस्तक मा आप ला नवा-नवा बिम्ब प्र...
Read More

राउत नाचा बर दोहा

 अव्यवस्था के खिलाफ बियंग भरे सरसी छंद                                                                         चित्र गुगल से साभार ...
Read More

थोकिन जाके देख

चित्र गुगल से साभार सरसी छंद दू पइसा मा मँहगा होगे, गउ माता हा आज । कुकरी-कुकरा संग बोकरा, करत हवय अब राज । कुण्डलियाँ ...
Read More

सार छंद मा सार गोठ

जउन बहुत के करय चोचला, अलग अपन ला मानय । संग ओखरे रहय न कोनो, संग छोड़के भागय।। जेन मिलय गा खोल करेजा, छोड़ कपट के बाना । संग ओखरे ...
Read More

छोटे परिवार

चित्र गुगल से साभार छोटे परिवार हवे, सुख के आधार संगी, जेन नहीं  तेन कहे,, मनखे के बाढ़ हे । जनसंख्या बाढ़े झन, नोनी-बा...
Read More

संयुक्त परिवार

चित्र गुगल से साभार कका-काकी दाई-ददा, भाई-भौजी  बड़े दाई, आनी-बानी फूल बानी, घर ला सजाय हे । धनिया मिरचा, संग पताल के हे चटनी ...
Read More

भाईदूज के दिन

चित्र गुगल से साभार /तुकबंदी/ भाईदूज के दिन , मइके जाहूँ कहिके बाई बिबतियाये रहिस  तिहार-बार के लरब ले झूकब बने...
Read More

मजा आगे

/तुकबंदी/ मजा आगे मजा आगे आसो के देवारी मा देवारी मा जुरे जुन्ना संगवारी मा लइका मन के दाँय-दाँय फटाका मा घर दुवारी पूरे रंगोली ...
Read More

सरकारी सम्मान

सरकारी सम्मान के, काला हे सम्मान । कोन नई जानत हवय, का येखर पहिचान । का येखर पहिचान, खुदे ला दे डारे हें । भाइ भतीजावाद...
Read More

छेरी के गोठ

गाय-गाय के रट ला छोड़व, कहत हवय ये छेरी । मैं ओखर ले का कमतर हँव, सोचव घेरी-बेरी ।। मोर दूध ला पी के देखव, कतका गजब सुहाथे । ...
Read More

अरुण निगम

अरुण निगमजी भेट हे, जनम दिन उपहार । गुँथत छंद माला अपन, भेट छंद दू चार ।। नाम जइसे आपके हे, काम हमला भाय । छंद साधक छंद गुरु ...
Read More
लिच लिच कनिहा हा करे, ऐ ओ गोरी तोर

लिच लिच कनिहा हा करे, ऐ ओ गोरी तोर

श्रृंगार दोहागीत जिंस पेंट फटकाय के, निकले जब तैं खोर । लिच लिच कनिहा हा करे, ऐ ओ गोरी तोर ।। देख देख ये रेंगना, कउँवा करें न काँ...
Read More
हे गणपति गणराज प्रभु

हे गणपति गणराज प्रभु

हे गणपति गणराज प्रभु, हे गजबदन गणेश, श्रद्धा अउ विश्वास के, लाये भेंट ‘रमेश‘ ।। लाये भेंट ‘रमेश‘, पहिलि तोला परघावत । पाँव गिरे मुड-गोड़, अप...
Read More
बासी खाके दाई, काम-बुता मा जाहूँ

बासी खाके दाई, काम-बुता मा जाहूँ

दे ना दाई मोला, दे ना दाई मोला, एक सइकमा बासी, अउ अथान चटनी । संग गोंदली दे दे, दे दे लाले मिरचा, रांधे हस का दाई, खेड़हा -खोटनी ।। बासी ख...
Read More
नवगीत-चुनाव के बाद का बदलाही ?

नवगीत-चुनाव के बाद का बदलाही ?

चुनाव के बाद का बदलाही ? तुहला का लगथे संगी चुनाव के बाद का बदलाही डारा-पाना ले झरे रूखवा ठुड़गा कस मोरे गाँव काम-बुता के रद्दा खोजत,...
Read More
अरे पुरवाही, ले जा मोरो संदेश

अरे पुरवाही, ले जा मोरो संदेश

अरे पुरवाही, ले जा मोरो संदेश धनी मोरो बइठे, काबर परदेश अरे पुरवा…ही मोर मन के मया, बांध अपन डोर छोड़ देबे ओखरे , अचरा के छोर सुरुर-सुरु...
Read More
सबो चीज के अपने गुण-धर्म

सबो चीज के अपने गुण-धर्म

सबो चीज के अपने गुण धर्म, एक पहिचान ओखरे होथे । कोनो पातर कोनो रोठ, पोठ कोनो हा गुजगुज होथे । कोनो सिठ्ठा कोनो मीठ, करू कानो हा चुरपुर हो...
Read More

ताते-तात

शिव-शिव शिव अस (डमरू घनाक्षरी)

डमरू घनाक्षरी (32 वर्ण लघु) सुनत-गुनत चुप, सहत-रहत गुप दुख मन न छुवत, दुखित रहय तन । बम-बम हर-हर, शिव चरण गहत, शिव-शिव शिव अस, जग दुख भर मन ...

अउ का-का हे इहाँ-